Sunday, 1 July 2012

Hindi Mast Sex Story

साहब बीवी और गुलाम
प्रेषक : बबलू
मेरे प्यारे दोस्तों,
इस कहानी को पढ़ने वाले सभी पाठको को मेरा प्यार!!!!!!
वो कहानी ही क्या जिसमे हकीकत ना हो !
मेरा नाम बबलू है और मैं नागपुर में रहता हूँ, मेरी उम्र २५ साल है! मै
ज्यादा खुबसूरत तो नहीं हूँ लेकिन शक्ल और सीरत से काफी अच्छा लगता
हूँ!मै अभी ला (विधि) कर रहा हूँ और साथ-साथ मै पार्ट टाइम जॉब भी करता
हूँ! मेरी हाईट ५"९' है और शारीर से तंदरुस्त हूँ!
मै एक वकील के ऑफिस में पार्ट टाइम शाम में ७ से १० तक करता हूँ! जिसका
नाम राजेश है वो हाई कोर्ट में वकील है! कभी-कभी मुझे वकील के घर भी जाना
पड़ता है! मेरे सर (वकील) की बीवी तो क़यामत है उसका नाम मगर मादरचोद
साली जितना वो अकड़ती उतनी ही सेक्सी भी थी! उसका नाम कविता है मगर उसे
प्यार से सभी किट्टी कहते है और मै किट्टी मैडम! उसकी उम्र ३० साल है और
एक बच्चे की माँ है! उसका रंग गोरा और उचाई मेरी ही जितनी है! जब वो चलती
थी तो बस पीछे से उसकी गांड को ही देखता था! क्या हिला-हिला कर चलती थी?
मेरा तो लंड ही खडा हो जाता था, सोचता था बस एक बार चोदने को मिल जाए
साली के १२ बजा दूंगा! मादरचोद को तरीके से बात करना ही नहीं आता था!
एक दिन मेरी किस्मत खुल गयी, मेरे वकील को केस के सिलसिले में दिल्ली
जाना था, जाते-जाते मेरे सर(वकील) ने कहा की "मै तिन दिन के लिए बहार जा
रहा हूँ, आफिस में कोई क्लाइंट आई तो अटेंड कर लेना, और घर में मैडम को
भी थोड़ा काम है वो भी देख लेना!" मैंने कहा "ठीक है, सर !" फिर सर को
मैंने नागपुर रेलवे स्टेसन छोड़ दिया और फिर छुट्टी की !
दुसरे दिन मैंने आफिस शाम को ८ बजे खोला ! कोई काम नहीं होने की वजह से
मैंने ब्लू फिल्म की सीडी भी साथ ले कर आया था! मैंने सर का केबिन खोला
उसके बाद मैंने आफिस का कम्पूटर ओन किया और सीडी लगा दी की तभी बहार
बारिश शुरू हो गयी मै और खुश हो गया, क्योकि अब कोई आने वाला ही नहीं था!
मै बिंदास ब्लू फिल्म देख रहा था! क्या मजेदार शोट था!
मैं आफिस में अकेला था और शाम के सादे आठ बजे थे मैंने ब्लू मूवी देख
रहा था और अपना लंड बाहर निकाल लिया और सहला रहा था। अचानक किट्टी मैडम
अंदर आ गयी न जाने वो कब आ गयी, मुझे पता नहीं चला कि कब गेट खुला और वो
अंदर आ गयी मैने उसे देख कर डर गया! और वो मुझे लंड सहलाते हुए देख कर
भी अनजान बन रही थी! मैंने तुरंत अपना लंड अन्दर कर दिया!मैडम केबिन के
बाहर खड़ी थी! मैंने आनन्-फानन में पीसी का सिर्फ मोनेटर ही बंद किया! मै
बहुत ज्यादा ही डर गया था!
मै मैडम के पास गया! मैने धीरे से कहा कि "मैडम चाय पेयोगी?" वो गुस्से
में बोली "नहीं"। मैं और डर गया। बाहर बारिश अभी भी जोरो से हो रही थी!
मैडम बारिश में पूरी तरह गीली हो गयी थी उसके हाथो में थैलिया थी! ऐसा लग
रहा था की वो शापिंग कर के आ रही थी! मैडम की लाल साड़ी में थी और वो
पूरी तरह से गीली हो गयी! मैडम के ब्लाउज में से काली ब्रा मुझे
साफ़-साफ़ दिख रही थी! "क्या घुर रहा है ?" (मैडम ने कहाँ)
मै -कुछ नहीं मैडम आप तो पूरी भीग गयी है!
मैडम -दरवाजा बंद कर मुझे कपडे चेंज करना है!
मै आफिस का दवाजा बाहर से बंद कर रहा था की मादरचोद ने फिर कहा "अबे
साले अन्दर से बंद कर" मै चौक गया मै तो जैसे उसका गुलाम था! सो मैंने
आफिस को अन्दर से बंद कर दिया और मै अन्दर ही बैठ गया! मैडम सर के केबिन
चली गयी! केबिन पूरा कांच का बना था इसलिए सबकुछ दिख रहा था! मैडम ने
पहले अपने बाल खोले हाथो हिला कर सुखाने लगी थी फिर उसने अपनी साडी उतार
दी! वो सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी! मै हैरान था की मादरचोद मेरे
सामने ही नंगी हो क्यों रही है? मेरा लंड फिर खडा हो गया था की मैडम ने
पीसी का मोनेटर ओन कर दिया और ब्लू फिल्म चालु ही थी! मै डर गया की मेरा
जॉब गया! "बबलू इधर आ ये सब करता रहता तू यहाँ पर?" मैडम ने मुझे बुलाया
मैं डरा हुआ केबिन में पहुचा और मैने कहा "मैडम प्लीज़ किसी को मत बताना
जो आप ने देखा।" वो कुछ नहीं बोली! मैने फिर कहा "प्लीज़ सर को मत बताना,
नहीं तो मेरी नौकरी चली जाएगी!" उसने कहा "तुझे शरम नहीं आती ये सब करते
हुए! मेरे पसीने छूट गये। तू ऐसा निकलेगा मैंने सोचा भी नहीं था?" उसने
मुझे आंखों से घूरा और बोली "तुम सारा दिन ये ही करते हो क्या?" मैंने
फिर कहा, "मैडम प्लीज" वो बोली "चल बाहर जा! मुझसे बात मत कर मैं तेरे
साहब को बोल दूंगी की ये यहाँ ये सब करता है!" मैने बहुत रेकुएस्ट की!
लेकिन वो नहीं मानी! मैं जैसे ही केबिन से बाहर निकलने के लिए मुडा,
"जाता कहाँ हैं!" वो मेरे पास आकर खड़ी हो गयी मैने फिर कहा "आप जो कहोगी
करूंगा" वो बोली "ये रोकर किसको दिखा रहा है!" मैने कहा "प्लीज़्ज़ज़्
मैडम अब नहीं करूंगा," वो बोली "क्यों नहीं करेगा!" मै ये सुनकर हैरान हो
गया! मैडम ने फिर कहा "चल पीसी के सामने बैठ मत रो, मेरे राजा मैं तो
सिर्फ तुझे डरा रही थी!" फिर क्या था मै पीसी के सामने बैठ गया! क्योकि
की मै पहली बार मैडम नरम रवैय्या देख रहा था! ब्लू फिल्म देख कर मेरा लंड
फिर खड़ा हो गया!
उसके बाद मैडम ने कहा "मेरी साडी उठा और ऊपर तेरे साहब के बेडरूम आ!"
फिर मैडम ऊपर चली गयी! मैंने साडी उठाई और ऊपर पहुचा तो मेरे आँखों यकीन
नहीं हो रहा था! किट्टी मैडम तो काली पैंटी और ब्रा में खड़ी थी! उसने
मुझे बेड पर बैठने को कहा! मैंने साडी किनारे रख दी और बेड पर बैठ गया
तभी किट्टी मैडम मेरे पास आई और उसने अपनी एक टांग बेड पर रखी फिर उसने
मेरे गालों पर हाथ लगाया और बोली "बेटा बबलू तू तो सच में डर गया, चल अब
शुरु हो जा मस्ती कर, ये ही तो उमर है, ये सब करने की!" मुझको ऐसी बातें
सुन कर थोड़ा सकून मिला! और उसने अपना हाथ मेरी ज़िप पर रखा, और बोली
"अरे मेरे राजा तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा है!" मैं उसके मुंह से लंड
शब्द सुन हैरान रह गया और उसने कहा "चल अपनी पैंट उतार" मैने कहा "क्या
मैडम" वो बोली "सुनाई नहीं देता क्या, चल जल्दी कर!" मैने अपनी पैंट उतार
दी और उसने मेरा अंडरवियर खींच दिया और मेरे तीन इंच के लंड को हाथ लगाया
और मेरा लंड पहले से ही टाइट था! उसने मेरे लंड की टोपी को अपने अंगूठे
से स्पर्श किया ,अब मैं मस्त हो गया और वो बोली तेरा लंड तो बहुत बड़ा
है, और देखते ही देखते मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया और उसने मेरा ८ इंच का
लंड अपने मुंह में ले लिया और उसको चूसने लगी, मुझे ऐसा अनुभव पहली बार
हुआ, मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं स्वर्ग में हूं!
मेरे लंड को चूसने के बाद वो खड़ी हो गयी उसने अपनी पैंटी और ब्रा
दोनों उतार दी और, मैने भी हिम्मत कर अब उसके बूब्स दबा दिये! उसके मोटे
दो गोरे बूब्स को दबाने लगा, उसकी चूचियां कड़ी हो गयी और वो बोली "बबलू
दबा ज़ोर से, आआआआह्हह्हह ऊऊह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह, मैं भी बहुत दिनो
की प्यासी हूं!" मैने उसके मम्में जमकर चूसे वो सिसकियां ले रही थी और
ऐसे में मैने अपनी शर्ट भी उतार दी और अब हम दोनो बिल्कुल नंगे हो गये,
मैने उसकी चूत में उंगली डाल दी, वो सिसकियां ले रही थी "आअह्हह्हह्हह्हह
बबलू आज तो मै मर गयी!, "आज मेरी प्यास बुझा दो!" हम अब ६९ पोजिशन में आ
गये उसने मेरा लंड फिर चूसना शुरु किया और मैने अपनी जीभ उसकी गरम चूत पर
रख कर उसे कुत्ते की तरह चाटने लगा!
उसने अब अजीब अंदाज़ में कहा "साले कुत्ते अब मत तड़पा चोद दे, मुझको
फाड़ दे, मेरी चूत, मरी जा रही हूं, आज मैं!" ऐसा सुनकर मैने भी बोला चल
"साली रांड आजा आज तेरी चूत फाड़ दूंगा!" और मैने उसे कुतिया बना लिया और
लंड का सुपाड़ा उसकी चूत पर रख दिया और हल्का सा धक्का लगाया और वो बोली
"आअह्हह्हह ऊऊह्ह ह्हह्हह साले पूरा डाल अपनी रंडी मैडम के अंदर!" और
मैने ज़ोर से झटका दिया और बोला "ले साली रंडी अब पूरा सात इंच का!" मेरा
लंड उसकी चूत में प्रवेश कर चुका था। वो बोल रही थी आआआअह्हह्हह्ह
ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह आआऊऊऊऔऊऊउस्सछह्हह "मार डाला रे, इतना दर्द तो
सुहागरात को नहीं हुआ, हरामी तेरा लौड़ा ही इतना बड़ा है!" ऐसे गालियां
सुन मुझे गुस्सा आया और मैं ज़ोर-जोर से उसको चोदता गया और वो मुझे
गालियां दिये जा रही थी! "साले कुत्ते आअह्हह्हह्ह फाड़ दे!, आह्हह बबलू
आआह्हह्हह्हह ऊऊऊह्हह्हह आज लगा दे सारा ज़ोर!"
कमरे में चुदाई की आवाज़ और आआआअह्ह ऊओह्हह्ह की आवाज़ से भर गयी! और
वो पागल हो गयी मैं भी वो सीधी लेट गयी और मैने उसकी टांगे खोल कर उसकी
फिर से चुदाई शुरु कर दी और वो मेरी पीठ पर नाखून सहलाने लगी और उसने
मेरी पीठ को खरोंचने लगी! और बोली "साले आज फाड़ देगा क्या चल ज़ोर लग
आआआअह्हह्हह्हह्ह" मई अपनी पूरी रफ़्तार के साथ धक्के लगा रहा था! की तभी
किट्टी मैडम ने कहा "मै झड़ने वाली हूँ !" जो करना है जल्दी करो!
मैंने अपना लंड मैडम की चूत में से निकाल कर उसे घोड़ी बना दिया और
उसकी लाल-लाल गांड को पकड़कर डाल दिया! मेरा लंड आधा ही अन्दर गया था की
मैडम ने कहा "तुम्हारा लंड बहुत मोटा है इतनी जल्दी अन्दर नहीं जाएगा!
फिर मैंने अपना लंड निकाला और अपने लंड पर थूक लगाया और किट्टी मैडम की
गांड में भी! फिर उसकी गांड को पकड़ा और लंड को उसकी गांड के छेद पर रखा
और एक लम्बी सास ले कर पूरी ताकत के साथ अन्दर पेल दिया की मैडम चिल्लाने
लगी, "लवडे मेरी गांड फट गई आह्ह्ह!" उसकी गांड में बहुत गर्मी थी! मै
अंधा-धुन धक्के पे धक्के मार रहा था! अब तो किट्टी मैडम को भी मजा आ रहा
था, वो अपनी गांड को आगे-पीछे करने लगी, "ले कितना मरेगा ले...... ले....
और ले आह्ह्ह्ह!" जिससे मेरा मजा दुगुना हो गया था! आज मेरी तमन्ना पूरी
हो रही थी! तभी किट्टी ने कहा "आज तक मेरी गांड को इतना मजा किसी ने नहीं
दिया!, साले तेरा लंड है की मुस्सल?" थोड़ी देर के बाद लगा की मै अब झड
जाउगा मैंने कित्ती से पूछा की "मै अपना पानी कहा गिराऊ?" तो मैडम ने कहा
"इतना कीमती लंड का पानी तो तू मेरी चूत में डालना!
मैंने अपना लंड किट्टी मैडम की गांड निकाला और मैडम को लिटा के दोनों
टाँगे फैला दी और मै उसके ऊपर आ गया फिर मैडम की चूत में अपना लंड डाल के
पूरी रफ्तार में चोदने लगा! मैडम ने अपने दोनों हाथो से मुझे पकड़कर अपनी
चूत को निचे से उठा-उठा कर मजा ले रही थी! मैडम ने कहा की "बबलू पूरी
ताकत लगा दे............ मै अब झड़ने वाली है वो मुझे इतना कस कर पकड़ी
थी की उसके नाख़ून मेरी पीठ में चुभ रहे थे, जैसे ही उसने अपना पानी
छोड़ा, मेरा भी वीर्य आ गया और मैं आनन्द से भर गया! और सारा वीर्य उसकी
चूत में ही छोड़ दिया और अब हम दोनो शान्त हो गए थे!
उसने मेरे माथे पे किस किया और बोली "तेरे लंड में जादू है, तू मुझे
रोज़ चोदा कर!, जब भी मौक़ा मिलेगा तू घर आ जाना हम दोनों खूब मजा करेगे!
उसके बाद जब भी सर (राजेश) बाहर जाते हमारा कार्यक्रम शुरू हो जाता!
दोस्तों कैसी लगी लेकिन ये हकीकत है!
bablu.ngp@gmail.com

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes