Saturday, 7 July 2012

Hindi Stories - मेरे लंड का इम्तेहान

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम नब्बू है मेरे बारे में तो आप सभी जानते ही होगे फिर भी मैं आप को बताता हूँ , मेरी उम्र २५साल है और मैं नागपुर में रहता हूँ आप लोगो के लिये फिर गरमा गरम मनोरंजन के लिए हाजिर हूँ ! ये कहानी नहीं हकीकत हैं, यह बात सिर्फ दो दिन पहले की हैं !
मैं जिस ऑफिस में काम करता हूँ उस ऑफिस में मेरे साथ लीला नामकी एक लड़की भी काम करती है जिसकी उम्र ३५ साल है उसका फिगर पूरा कसा हुआ है उसका साइज 34-32-36 और साथ में सेक्सी भी हैं मैं जब भी उसे देखता तो मेरा मन उसे चोदने के बारे में ही सोचता रहता एक दो बार तो मैंने उसकी सीने पे हाथ भी फेर दिया था, और कभी कभी बात करते करते उसे छु भी लेता था! एक दिन तो उसे कह ही दिया "लीला तुम बहुत ही सेक्सी लगती हो एक बार तो मैं तुम्हे चोदना चाहता हूँ ''
लीला -तेरे लंड में उतना जोर ही नहीं की मेरी प्यास मिटा सके !
ये सून के तो मेरा तो दिमाग काम करना बंद कर दिया लेकिन ख़ुशी भी हो रही थी की वो मेरे से इस भाषा में बात कर रही है मैं कुछ नहीं बोला और सोचा की साली मादरचोद को एसा चोदुंगा की वो याद रखेगी इसका लंड है की क्या है? अब सीधा दो दिन पहले की बात बताता हूँ!
शनिवार के 2बज रहे थे हम आफिस बंद कर रहे थे की अचानक एक मीटिंग आ गयी और आफिस में मैं , लीला और हमारा आफिसर हम तीन लोग ही थे मैंने लीला को रोक लिया कहा की एक घंटे के बाद चले जाना और चार बजे मीटिंग खत्म हो गयी हमारा आफिसर जज चुका था अब मैं और लीला हम दो ही लोग बचे थे लीला आफिस बंद कर रही थी मैंने सीचा की इससे अच्छा मौक़ा हैं ही नहीं लीला ने सभी के केबिन लाक कर दिया था मैं जिस केबिन में था वो सिर्फ खुला था , लीला मेरे पास आई और कहाँ "घर नहीं जाना है क्या ?'' मैंने उसका हाथ पकड़ लिया खीच कर अपनी बाहों में जकड लिया और कहा "घर जाके मैं क्या करुगा मुझे जो चाहिए वो तो यहाँ है ''
लीला- (मुस्कुराते हुए) तू आज पागल तो नहीं हो गया है ?
मैं- हाँ तुने उस दिन क्या कहा था ? मेरे लंड का आज इम्तिहान है !
कहते हुए दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया उसे सोफे पे लिटा कर कीस्स् करने लगा और मेरा एक हाथ उसकी साडी में पेटीकोट के अन्दर दाल के उसकी चुत सहलाने लगा जब तक वो गीली नहीं हो गयी, अब मैंने ज्यादा समय न लेते हुए उसकी साडी उतारना शुरू कर दिया मैंने जल्दी उसे साडी से आजाद कर दिया अब वो केवल काले रंग की पैंटी और ब्रा में थी ऊपर से उसका गोरा गोरा कसा हुआ जिस्म मेरा लंड पैंट के अन्दर ही तनतना रहा था !
लीला- मेरे तो सारे कपडे उतार दिया तू भी अपने सारे कपडे उतार !
मैं- इतनी जल्दी क्या हैं आज मैं तेरे को अपने लड़ का जोर दिखाउगा !
लीला- देखती हूँ ना,
अब मैंने भी अपने सारे कपडे उतार दिया और अन्डर्वेअर भी उतार दिया मेरा 6.5 इंच का लंड जैसे ही निकाला लिली बोली ''अरे बाप रे इतना ऐसा लंड तो मेरी चुत फाड़ देंगा तू शक्ल से शरीफ जैसा दिखता हैं '' मैंने कहाँ इसे चुसो '' जैसे ही उसने मेरा लंड मूह में लिया आह क्या मजा आ रहा था ,लीला लालीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसने लगी मैं समझ गया ये भी सेक्स करने माहिर और अनुभवी हैं ,फिर मैं खड़े खड़े ही उसकी ब्रा के हूक खोल दिया उसके दोनों मेमे मेरे सामने थे क्या मेमे थे गोरे गोरे हलके गुलाबी रंग के ,जो जरुरत स ज्यादा बड़े नहीं थे मैं उसकी मम्मो की चुस्सियो को मसलने लगा लीला को भरपूर मजा आने लगा था ! मैं भी लंड चुस्वाते हुए मजा ले रहा था दस मिनट के बाद मैंने उसके मूह में अपना लंड निकला और उसकी पैंटी उतारी उसकी डबलरोटी की जैसी फूली हुई चुत पे एक भी बाल नहीं थे लीला बोली "मेरे राजा आज ही साफ़ की है, देखते ही रहोगे या काम करोगे ऐसा तो नहीं की तुम्हे सब सिखाना पडेगा चलो अब शुरू हो जाओ'' मैंने कहा "इतनी जल्दी क्या हैं ? ये तो फोरप्ले का पहला ही पार्ट था अभी तो और बाकी हैं !'' अब हम दोनों पुरी तरह से नंगे थे मैंने उसके दोनों उभारो को सहलाने लगा और उसे लिटा के उसके ऊपर लेट गया और दोनों चुस्सी को मूह में लेकर चूसने लगा , अब लीला पूरी तरह से गरम हो गयी थी वो आह.... ह....ह.... आह.... ह.... ह.... करने लगी थी फिर मैं उसे किस् करने लग गया और अपनी ऊँगली उसकी चुत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा उसकी चुत पूरी तरह से गीली ही गयी थी दस मिनट के बाद लीला ने कहा "क्यों मुझे इतना तरसा रहें हो ? अब अपना लंड डालो और मेरी चुत फाड़ डालो " आह ..ह...ह.. अब बर्दाद्त नहीं हो रहा हैं "" लेकिन मैं कुछ और करना चाहता था अब हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, मैंने अपना लंड उसके मूह डाल दिया और पागलो के जैसी मेरा लंड चुसने लगी थी मैंने भी उसकी चुत में अपनी ऊँगली डाल के चोदने लगा, वो अपनी चुत हिलाने लगी थी क्योकि अब उसके बर्दास्त के बाहर हो गया था !
अचानक लीला ने लंड चुसना छोड़ के मुझे सोफे पर ही लिटा दिया और वो मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड पे बैठ के आगे पीछे होने लगी वो अपनी चुत पूरी तरह स मेरे लंड घस रही थी उसके चुत के पानी से मेरा लंड गीला होने लगा था उसे चुदने का शायद जबरदस्त अनुभव होंगा ? वो आह. . आह. . कर रही थी अब मैं भी अपना लंड डालने के मुंड में था अब मैंने लीला को लिटा के उसकी टाँगे फैला दी और मैं उसकी दोनों टांगो के बीच बैठ के अपना लंड उसकी चुत के मूह पे रख दिया और उसके दोनों गोलों को पकड़ कर जोरदार शाट मारा , लीला चिल्लाने लगी! "" फाड़ दीया रे....साले. तुन तो... हलक ...तक ...पेल.. दिया...........रे .. आज तो मेरी चुत तो फाड़ ही डालेंगा "" मेरा लंड और उसकी चुत गीली होने की वजह से अन्दर तक मेरा लंड पहुच चुका था अब मैं जोर जोर से शाट मर रहा था ! मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था हम दोनो सेक्स का भरपूर मजा ले रहे थे, बीच बीच में लीला अपनी चुत उठा उठा धक्का मर रही थी वो मेरे शाट का मजा ले रही थी लीला बोली की "नब्बू आह... ये बताओ की इतनी सी उम्र में ये सब कहा से सिखा वाकई आज किसी मर्द से मेरा सामना हुआ हैं आह .. आ. ओह इतना मजा पहले कभी नहीं आया " मैंने कहा "मेरी जान अभी तो बहुत कुछ जानना बाकी हैं " फीर दस मीनत के बाद मैंने उसकी दोनों टाँगे पकडके ऊपर की ओर उठाई और फैला के जोर जोर के धक्के दे रहा था वो कहने लगी "जानू बहोत मजा आ रहा है .. आह आह ..ओह .. फिर उसने अपने दोनों हाथो से मेरे बालो को पकडकर अपनी तरफ खीच लिया और कीस्स करने लगी , उसके दोनों गोले मेरे सीने से टकरा रहे थे मुझे भी बहो ही मजा आ रहा था अचानक लीला ने मुझे कास के पकड लिया और कहा "मैं झड़ने वाली हू मेरा पानी निकलनेवाला है,"
मैंने जिसकी कल्पना नहीं की थी वो हो रहा था मैं नहीं चाहता था की वो झड़े, मैंने अपना लंड उसकी चुत में से निकाल लिया और उसके मूह में डाल दीया फिर पांच मिनट के बाद सोफे पर ही मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे आकर उसकी लाल लाल गांड को पकडके चुत में अपना लंड डाला और शुरू हो गया मैं और बीच बिच में वो आगे पीछे हो के मजा ले रही थी ओह ..ओह.. ''तू क्या मजा दे रहा हैं रे मैं तो खुश हो गई' आज उसे मुझे कुछ कर दिखाना था दस पंधरा मिनट के बाद लगा की अब मैं झड जाउंगा मैंने फिर अपना लंड निकाल लिया और उसे सोफे पे लिटा दिया मैं उसके ऊपर आया और उसकी दोनों को उठा के उसके सीने से सटाकर लगा दिया और उसे दोनों हाथो से पकड़ा दिया लीला बोली "मैंने आज तक इतना देर तक कभी नहीं चुदवाया तुने तो आज मेरी चुत क्र बारह बजा दिए"! मैंने कहा तू मेरे लंड का इम्तेहान लेना चाहती थी न ?"
लीला को उसी मुद्रा में थी उसकी चुत पूरी लाल हो गई थी मैंने उसकी चुत पे अपना लंड रखा और दनदनाता हुआ शाट मारा उसके मूह से चीख निकल पड़ी "आह्ह्ह्हह माँ..... मर गई" और उसकी आँखों से आसू भी निकल आ गए मैंने उससे कहा "क्या तू पहली बार चुदवा रही है" मैं जनता था इस तरह रांडो की फटी हुई चुत को चोदने से रांड को भी दर्द होता हैं फीर लीला बोली "टी आज मुझे ज़िंदा जाने देंगा या नहीं मोरे सिया थोड़ा आराम से करो न" फिर मैं धीरे धीरे उसे चोदने लगा दस मिनट के बाद मैंने उसकी टाँगे सीधी कर के जोर जोर शुरू हो गया थोड़ी देर के बाद लीला ने कास के मुझे पकड़ लिया मैं समझ गया की अब इस कार्यक्रम समाप्त हो रहा हैं फिर मैंने उसके दोनों गोलओ को पकड़ा और अपनी गाती बड़ा दी थोड़ी देर में उसकी चुत में बाढ़ आ गई वो झड चुकी थी अब मैं भी झड़ने वाला था ,मैंने पूछा लीला "मैं अपना पानी कहा छोडू ?" वो बोली "मेरे सरताज मेरी चुत में अपना पानी छोड़ दो " थोड़ी देर के मैं भी अपना सारा पानी उसकी चुत में ही छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया हम पसीने से भीग गए थे और हमारी तेज सासे धीरे धीरे नार्मल हो रही थी फिर हमने घड़ी दाखि तो शाम के आठ बज रहे थे !फिर मैंने उसे अपनी बाइक से घर छोड़ने जा रहा था रस्ते में लीला ने कहा "मैं आज के बाद तुमसे कभी भी ऐसी बात नहीं करूंगी आज मेरी चुत का तुमने तो भोसडा बना डाला, इतना तो मेरे पति भी नहीं चोदा होंगा ?'
दोस्तों कैसी लगी उसे चोदने के बाद मैंने सोच लिया की आज के बाद मैं इसे कभी नहीं चोदुगा क्यों? कहानी कैसी लगी ? मेल तो किया करो दोस्तों एक कलाकार अपनी कला की तारीफों का ही भूखा रहता है!
!मेरे लंड का इम्तेहान
हेल्लो दोस्तों
मेरा नाम नब्बू है मेरे बारे में तो आप सभी जानते ही होगे फिर भी मैं आप को बताता हूँ , मेरी उम्र २५साल है और मैं नागपुर में रहता हूँ आप लोगो के लिये फिर गरमा गरम मनोरंजन के लिए हाजिर हूँ ! ये कहानी नहीं हकीकत हैं, यह बात सिर्फ दो दिन पहले की हैं !
मैं जिस ऑफिस में काम करता हूँ उस ऑफिस में मेरे साथ लीला नामकी एक लड़की भी काम करती है जिसकी उम्र ३५ साल है उसका फिगर पूरा कसा हुआ है उसका साइज 34-32-36 और साथ में सेक्सी भी हैं मैं जब भी उसे देखता तो मेरा मन उसे चोदने के बारे में ही सोचता रहता एक दो बार तो मैंने उसकी सीने पे हाथ भी फेर दिया था, और कभी कभी बात करते करते उसे छु भी लेता था! एक दिन तो उसे कह ही दिया "लीला तुम बहुत ही सेक्सी लगती हो एक बार तो मैं तुम्हे चोदना चाहता हूँ ''
लीला -तेरे लंड में उतना जोर ही नहीं की मेरी प्यास मिटा सके !
ये सून के तो मेरा तो दिमाग काम करना बंद कर दिया लेकिन ख़ुशी भी हो रही थी की वो मेरे से इस भाषा में बात कर रही है मैं कुछ नहीं बोला और सोचा की साली मादरचोद को एसा चोदुंगा की वो याद रखेगी इसका लंड है की क्या है? अब सीधा दो दिन पहले की बात बताता हूँ!
शनिवार के 2बज रहे थे हम आफिस बंद कर रहे थे की अचानक एक मीटिंग आ गयी और आफिस में मैं , लीला और हमारा आफिसर हम तीन लोग ही थे मैंने लीला को रोक लिया कहा की एक घंटे के बाद चले जाना और चार बजे मीटिंग खत्म हो गयी हमारा आफिसर जज चुका था अब मैं और लीला हम दो ही लोग बचे थे लीला आफिस बंद कर रही थी मैंने सीचा की इससे अच्छा मौक़ा हैं ही नहीं लीला ने सभी के केबिन लाक कर दिया था मैं जिस केबिन में था वो सिर्फ खुला था , लीला मेरे पास आई और कहाँ "घर नहीं जाना है क्या ?'' मैंने उसका हाथ पकड़ लिया खीच कर अपनी बाहों में जकड लिया और कहा "घर जाके मैं क्या करुगा मुझे जो चाहिए वो तो यहाँ है ''
लीला- (मुस्कुराते हुए) तू आज पागल तो नहीं हो गया है ?
मैं- हाँ तुने उस दिन क्या कहा था ? मेरे लंड का आज इम्तिहान है !
कहते हुए दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया उसे सोफे पे लिटा कर कीस्स् करने लगा और मेरा एक हाथ उसकी साडी में पेटीकोट के अन्दर दाल के उसकी चुत सहलाने लगा जब तक वो गीली नहीं हो गयी, अब मैंने ज्यादा समय न लेते हुए उसकी साडी उतारना शुरू कर दिया मैंने जल्दी उसे साडी से आजाद कर दिया अब वो केवल काले रंग की पैंटी और ब्रा में थी ऊपर से उसका गोरा गोरा कसा हुआ जिस्म मेरा लंड पैंट के अन्दर ही तनतना रहा था !
लीला- मेरे तो सारे कपडे उतार दिया तू भी अपने सारे कपडे उतार !
मैं- इतनी जल्दी क्या हैं आज मैं तेरे को अपने लड़ का जोर दिखाउगा !
लीला- देखती हूँ ना,
अब मैंने भी अपने सारे कपडे उतार दिया और अन्डर्वेअर भी उतार दिया मेरा 6.5 इंच का लंड जैसे ही निकाला लिली बोली ''अरे बाप रे इतना ऐसा लंड तो मेरी चुत फाड़ देंगा तू शक्ल से शरीफ जैसा दिखता हैं '' मैंने कहाँ इसे चुसो '' जैसे ही उसने मेरा लंड मूह में लिया आह क्या मजा आ रहा था ,लीला लालीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसने लगी मैं समझ गया ये भी सेक्स करने माहिर और अनुभवी हैं ,फिर मैं खड़े खड़े ही उसकी ब्रा के हूक खोल दिया उसके दोनों मेमे मेरे सामने थे क्या मेमे थे गोरे गोरे हलके गुलाबी रंग के ,जो जरुरत स ज्यादा बड़े नहीं थे मैं उसकी मम्मो की चुस्सियो को मसलने लगा लीला को भरपूर मजा आने लगा था ! मैं भी लंड चुस्वाते हुए मजा ले रहा था दस मिनट के बाद मैंने उसके मूह में अपना लंड निकला और उसकी पैंटी उतारी उसकी डबलरोटी की जैसी फूली हुई चुत पे एक भी बाल नहीं थे लीला बोली "मेरे राजा आज ही साफ़ की है, देखते ही रहोगे या काम करोगे ऐसा तो नहीं की तुम्हे सब सिखाना पडेगा चलो अब शुरू हो जाओ'' मैंने कहा "इतनी जल्दी क्या हैं ? ये तो फोरप्ले का पहला ही पार्ट था अभी तो और बाकी हैं !'' अब हम दोनों पुरी तरह से नंगे थे मैंने उसके दोनों उभारो को सहलाने लगा और उसे लिटा के उसके ऊपर लेट गया और दोनों चुस्सी को मूह में लेकर चूसने लगा , अब लीला पूरी तरह से गरम हो गयी थी वो आह.... ह....ह.... आह.... ह.... ह.... करने लगी थी फिर मैं उसे किस् करने लग गया और अपनी ऊँगली उसकी चुत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा उसकी चुत पूरी तरह से गीली ही गयी थी दस मिनट के बाद लीला ने कहा "क्यों मुझे इतना तरसा रहें हो ? अब अपना लंड डालो और मेरी चुत फाड़ डालो " आह ..ह...ह.. अब बर्दाद्त नहीं हो रहा हैं "" लेकिन मैं कुछ और करना चाहता था अब हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, मैंने अपना लंड उसके मूह डाल दिया और पागलो के जैसी मेरा लंड चुसने लगी थी मैंने भी उसकी चुत में अपनी ऊँगली डाल के चोदने लगा, वो अपनी चुत हिलाने लगी थी क्योकि अब उसके बर्दास्त के बाहर हो गया था !
अचानक लीला ने लंड चुसना छोड़ के मुझे सोफे पर ही लिटा दिया और वो मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड पे बैठ के आगे पीछे होने लगी वो अपनी चुत पूरी तरह स मेरे लंड घस रही थी उसके चुत के पानी से मेरा लंड गीला होने लगा था उसे चुदने का शायद जबरदस्त अनुभव होंगा ? वो आह. . आह. . कर रही थी अब मैं भी अपना लंड डालने के मुंड में था अब मैंने लीला को लिटा के उसकी टाँगे फैला दी और मैं उसकी दोनों टांगो के बीच बैठ के अपना लंड उसकी चुत के मूह पे रख दिया और उसके दोनों गोलों को पकड़ कर जोरदार शाट मारा , लीला चिल्लाने लगी! "" फाड़ दीया रे....साले. तुन तो... हलक ...तक ...पेल.. दिया...........रे .. आज तो मेरी चुत तो फाड़ ही डालेंगा "" मेरा लंड और उसकी चुत गीली होने की वजह से अन्दर तक मेरा लंड पहुच चुका था अब मैं जोर जोर से शाट मर रहा था ! मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था हम दोनो सेक्स का भरपूर मजा ले रहे थे, बीच बीच में लीला अपनी चुत उठा उठा धक्का मर रही थी वो मेरे शाट का मजा ले रही थी लीला बोली की "नब्बू आह... ये बताओ की इतनी सी उम्र में ये सब कहा से सिखा वाकई आज किसी मर्द से मेरा सामना हुआ हैं आह .. आ. ओह इतना मजा पहले कभी नहीं आया " मैंने कहा "मेरी जान अभी तो बहुत कुछ जानना बाकी हैं " फीर दस मीनत के बाद मैंने उसकी दोनों टाँगे पकडके ऊपर की ओर उठाई और फैला के जोर जोर के धक्के दे रहा था वो कहने लगी "जानू बहोत मजा आ रहा है .. आह आह ..ओह .. फिर उसने अपने दोनों हाथो से मेरे बालो को पकडकर अपनी तरफ खीच लिया और कीस्स करने लगी , उसके दोनों गोले मेरे सीने से टकरा रहे थे मुझे भी बहो ही मजा आ रहा था अचानक लीला ने मुझे कास के पकड लिया और कहा "मैं झड़ने वाली हू मेरा पानी निकलनेवाला है,"
मैंने जिसकी कल्पना नहीं की थी वो हो रहा था मैं नहीं चाहता था की वो झड़े, मैंने अपना लंड उसकी चुत में से निकाल लिया और उसके मूह में डाल दीया फिर पांच मिनट के बाद सोफे पर ही मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे आकर उसकी लाल लाल गांड को पकडके चुत में अपना लंड डाला और शुरू हो गया मैं और बीच बिच में वो आगे पीछे हो के मजा ले रही थी ओह ..ओह.. ''तू क्या मजा दे रहा हैं रे मैं तो खुश हो गई' आज उसे मुझे कुछ कर दिखाना था दस पंधरा मिनट के बाद लगा की अब मैं झड जाउंगा मैंने फिर अपना लंड निकाल लिया और उसे सोफे पे लिटा दिया मैं उसके ऊपर आया और उसकी दोनों को उठा के उसके सीने से सटाकर लगा दिया और उसे दोनों हाथो से पकड़ा दिया लीला बोली "मैंने आज तक इतना देर तक कभी नहीं चुदवाया तुने तो आज मेरी चुत क्र बारह बजा दिए"! मैंने कहा तू मेरे लंड का इम्तेहान लेना चाहती थी न ?"
लीला को उसी मुद्रा में थी उसकी चुत पूरी लाल हो गई थी मैंने उसकी चुत पे अपना लंड रखा और दनदनाता हुआ शाट मारा उसके मूह से चीख निकल पड़ी "आह्ह्ह्हह माँ..... मर गई" और उसकी आँखों से आसू भी निकल आ गए मैंने उससे कहा "क्या तू पहली बार चुदवा रही है" मैं जनता था इस तरह रांडो की फटी हुई चुत को चोदने से रांड को भी दर्द होता हैं फीर लीला बोली "टी आज मुझे ज़िंदा जाने देंगा या नहीं मोरे सिया थोड़ा आराम से करो न" फिर मैं धीरे धीरे उसे चोदने लगा दस मिनट के बाद मैंने उसकी टाँगे सीधी कर के जोर जोर शुरू हो गया थोड़ी देर के बाद लीला ने कास के मुझे पकड़ लिया मैं समझ गया की अब इस कार्यक्रम समाप्त हो रहा हैं फिर मैंने उसके दोनों गोलओ को पकड़ा और अपनी गाती बड़ा दी थोड़ी देर में उसकी चुत में बाढ़ आ गई वो झड चुकी थी अब मैं भी झड़ने वाला था ,मैंने पूछा लीला "मैं अपना पानी कहा छोडू ?" वो बोली "मेरे सरताज मेरी चुत में अपना पानी छोड़ दो " थोड़ी देर के मैं भी अपना सारा पानी उसकी चुत में ही छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया हम पसीने से भीग गए थे और हमारी तेज सासे धीरे धीरे नार्मल हो रही थी फिर हमने घड़ी दाखि तो शाम के आठ बज रहे थे !फिर मैंने उसे अपनी बाइक से घर छोड़ने जा रहा था रस्ते में लीला ने कहा "मैं आज के बाद तुमसे कभी भी ऐसी बात नहीं करूंगी आज मेरी चुत का तुमने तो भोसडा बना डाला, इतना तो मेरे पति भी नहीं चोदा होंगा ?'
दोस्तों कैसी लगी उसे चोदने के बाद मैंने सोच लिया की आज के बाद मैं इसे कभी नहीं चोदुगा क्यों? कहानी कैसी लगी ? मेल तो किया करो दोस्तों एक कलाकार अपनी कला की तारीफों का ही भूखा रहता है! nabbukhan_25@yahoo.com मेरा मेल आई डी ये है !

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes