Wednesday, 27 June 2012

Hindi Stories - Hindi Main Maza pudai

मेरा नाम रोहित है मेरी उम्र 25 साल है 19 साल की उम्र से ही मैने चूत मारनी शुरु कर दी थी मेरा लन्ड 9 इन्च का है मै चूत का चुदक्कड बन गया हू मेरी एक मुहबोली बहन थी जिसका नाम पारुल था वह मेरे घर के पास ही रहती थी उसके घर पर हमारा काफी आना जाना था पारुल की उम्र इस समय 22 साल की थी रंग गोरा मोटी गाँड भरी हुई चुचिँया जो कि किसी का भी ध्यान अपनी खीँच लेती थी अक्सर पारुल पढाई के लिये हमारे घर पर सो जाया करती थी पारुल के घरवालो को किसी शादी मे जाना था तो वे लोग शादी मे चले गये हमारे गाँव मे किसी रिस्तेदार की डैथ हो गयी थी तो मम्मी पापा वहा चले गये शाम को पारुल मेरे घर आकर खाना बनाया फिर हमने साथ साथ खाना खाया उसके बाद मै अपनी किताब उठाकर पढने लगा पारुल भी मेरे पास आकर पढने लगी सर्दी के कारण मैने रजाई पैरो पर डाल थी अचानक मेरा पैर पारुर की जाँघ से टच हो गया मुझे उसका र्स्पश पाकर बहुत अच्छा लगा मै धीरे-2 उसकी जाँघ को पैरो से सहलाने लगा उसने कोई विरोध नही किया मुझसे रहा नही गया और मैने उसकी कमर मे हाथ डाल दिया और उसके पेट को सहलाने लगा उसका चेहरा लाल हो गया था और वह सिसकरियां ले रही थी मैने उसे बाँहो मे भर कर उसे चूमने लगा उसके बाद उसका कुर्ता और ब्रा निकाल कर उसके बुब्स को चूसने लगा पारुल की रसीली जवानी का स्वाद बहुत ही मस्त लग रहा था अब मैने भी अपने कपडे निकाल दिये थे अब पारुल मेरे 9 इन्च के लन्ड के साथ खेल रही थी पारुल के मुह से तेज तेज सिसकारियाँ निकलने लगी आह ऊ ऊऊऊऊई मैने अपना लन्ड उसके मुह मे डाल दिया वह मेरे लन्ड को बडे प्यार से चूसने लगी और मै उसकी चूत मे उंगली डाल कर मजे ले रहा था उसकी चूत पानी छोड चुकी थी मैने भी कुछ देर के बाद उसके मुह मे झाड दिया और दोनो चिपक के लेट गये कुछ देर के बाद मेरा लन्ड फिर खडा हो गया मैने ज्यो ही उसकी चूत पर लन्ड रखा उसने अपनी चूत पर हाथ रख लिया वह बोली ये काम मत करो तुम्हारा लन्ड बहुत मोटा है मेरी तो फट जायेगी, पारुल कुछ नही होगा मै धीरे धीरे करुगा, जब र्दद होगा तो बता देना, ठीक है लेकिन धीरे से करना मुझे डर लग रहा है डरने की कोई बात नही है उसके बाद मैने अपना लन्ड उसकी चूत पर रखकर तेज धक्का मार दिया उसकी चीँख निकल गई ऊई माँ मर गई आह ऊ ऊह मैने कस के उसे बाँहो मे भर लिया और
एक तेज धक्का मारा वह झटपटाने लगी अब मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत मे समा गया था मै कुछ देर ऐसे ही लेटे रहा फिर धीरे धक्के मारने लगा अब पारुल को भी मजा आ रहा था वह भी अपनी चूत को ऊपर नीचे कर रही थी मै उसकी टाँगो को कन्धे पर रख कर चूत मारने लगा अब पारुल को चूत मरवाने मे काफी मजा आ रहा था उस रात पारुल को मेने तीन बार चोदा इसके बाद हमे जब भी मौका मिला हम एक दूसरे की बाँहो मे खो जाते

अगर अन्टी भाभी मेरे साथ सेक्स करना चाहती है तो आप मुझे ईमेल कर सकते है आप की पहचान गुप्त रखी जायेगी
abhishek.rana73@gmail.com

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes